प्रथम सोमवार –

पहले सोमवार को शिव जी के महामायाधारी स्वरूप का पूजन किया जाता है। शिव जी का पूजन कर “ॐ लक्ष्मीप्रदाय ह्रीं ऋण मोचने श्रीं देहि – देहि शिवाय ” मंत्र का 11 बार माला जाप करें । इसके जप से ऋण से मुक्ति, लक्ष्मी की प्राप्ति, सम्पत्ति में वृद्धि, आजीविका की प्राप्ति होती है।